एमपी ई उपार्जन 2024 किसान ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन @mpeuparjan.nic.in


MP E Uparjan Registration 2024 | MP Kisan panjiyan | mpeuparjan.nic.in Mobile App | MP E-Uparjan Kisan Online Registration | ई उपार्जन पंजीयन

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 15 अप्रैल 2020 को ई-उपार्जन योजना शुरू की गई है। कोरोनावायरस संकट के कारण, रबी सीजन में बड़ी संख्या में किसान लोगों ने अपनी आजीविका और लाभ खो दिया है। इस स्थिति को दूर करने के लिए, मध्य प्रदेश की राज्य सरकार ने एमपी राज्य में रबी खरीद शुरू करने के लिए ई उपार्जन पोर्टल की शुरूवात है। इस लेख के माध्यम से, हमने MP E Uparjan in Hindi में विस्तृत जानकारी साझा की है, इसलिए हमारे लेख को अंत तक पढ़ें और योजना का लाभ उठाएं।

एमपी ई उपार्जन किसान ऑनलाइन पंजीकरण, उद्देश्य, पात्रता और लाभ

ई उपार्जन एक पोर्टल है, जो किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए एक मंच के रूप में कार्य करता है। किसानों को अपनी उपज को बेहतर कीमत पर बेचने का मौका देने के लिए पोर्टल पर किसान का पंजीकरण किया जाता है। पंजीकरण के बाद किसान मध्य प्रदेश की राज्य सरकार द्वारा निर्धारित कीमतों के अनुसार फसलों को बेच सकते हैं। पोर्टल पर पंजीकरण की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन की जाती है। इस वर्ष की रबी की फसल अब कटाई के करीब है और मध्य प्रदेश के सभी किसान अपनी उपज को मप्र सरकार के MP E Uparjan Portal से बेहतर कीमतों पर बेच सकते हैं। मध्य प्रदेश राज्य के किसानों को उनकी फसलों के लिए वित्तीय लाभ प्रदान करने के लिए एमपी ई उपार्जन पोर्टल शुरू किया गया है। 

सरकार द्वारा राज्य के किसानों के लिए पोर्टल पहले ही खोल दिया गया है। मध्य प्रदेश ई उपार्जन पोर्टल पर पंजियान 25 जनवरी, 2021 से शुरू किया गया है। मध्य प्रदेश राज्य के सभी किसानों के लिए एमपी ई उपार्जन रबी फसलों के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किया है। अब सभी किसान जो रबी सीजन की अपनी कृषि उपज यानी गेहूं को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकार को बेचना चाहते हैं, mpeuparjan.nic.in पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

राज्य सरकार फसल खरीद को निर्धारित बिक्री बिंदुओं (मंडियों) पर नियंत्रित करेगी। इससे पहले, विभिन्न जिला मंडियां ई-उपार्जन पर आवेदन करने के लिए जिम्मेदार थीं। लेकिन सरकार ने इस साल के लिए पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन कर दी है। तो, इच्छुक आवेदक स्वयं भी पंजीकरण कर सकते हैं।

सभी उम्मीदवार जो MP E Uparjan Online Apply करने के इच्छुक हैं, फिर आधिकारिक अधिसूचना डाउनलोड करें और सभी पात्रता मानदंड और आवेदन प्रक्रिया को ध्यान से पढ़ें। हम "एमपी ई-उपार्जन 2024" के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्रदान करेंगे जैसे योजना लाभ, पात्रता मानदंड, योजना की मुख्य विशेषताएं, आवेदन की स्थिति, आवेदन प्रक्रिया और बहुत कुछ।

MP E Uparjan Details

Name of Scheme

MP E Uparjan

in Language

एमपी ई उपार्जन

Launched by

मध्य प्रदेश राज्य सरकार

Beneficiaries

राज्य के किसान

Major Benefit

राज्य के किसान रबी सीजन की कृषि उपज बेचें और MSP पर कमाएं

Scheme Objective

रबी फसल का MSP बिक्री मूल्य प्रदान करें

Scheme under

राज्य सरकार

Name of State

मध्य प्रदेश

Post Category

पोर्टल

Official Website

mpeuparjan.nic.in

महत्वपूर्ण तिथियाँ

Event

Dates

Date of registration  

15 अप्रैल 2020

Time 

गेहूं उपार्जन के लिए प्रातः 10:00 बजे से प्रातः 6:00 बजे तक

महत्वपूर्ण लिंक

Event

Links

Apply Online

Registration

MP E-Uparjan Kisan Application

Click Here

MP E Uparjan Portal

Download Mobile App

Official Website

Click Here



मध्य प्रदेश ई-उपार्जन क्या है ?


ई-उपार्जन पोर्टल किसानों के लिए आरंभ किया गया है। पोर्टल माध्यम से राज्य सरकार मध्यप्रदेश के जो किसान खरीफ सीजन के दौरान समर्थन मूल्य पर फसल सरकार को बेचना चाहते हैं, उनके लिए इस पोर्टल पर पंजीकरण प्रक्रिया आरंभ हो गई है। राज्य के वह सभी इच्छुक किसान जो सरकार द्वारा तय समर्थन मूल्य पर अपनी फसल बेचना चाहते हैं उन्हें इस पोर्टल पर पंजीकरण करवाना होगा। इस पोर्टल के माध्यम से राज्य सरकार किसानों को बिक्री के पहले चरण में अपनी रबी उपज बेचने का मौका दे रही है। राज्य के सभी किसान जो अपनी उपज को बेहतर कीमत पर बेचना चाहते हैं, इस पोर्टल पर बेच सकते हैं।

रबी की खरीद 15 अप्रैल, 2020 से शुरू हो गई है। इस योजना का परिचय देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी किसान भाइयों से अनुरोध है कि वे अपने गेहूं और अन्य कृषि उत्पादों को SMS द्वारा दी गई तारीख और समय पर खरीद केंद्रों पर ले जाएं और रबी बेचें। सीजन की खरीद एमपी राज्य सरकार भोपाल, इंदौर और उज्जैन जिलों में अलग-अलग खरीद की तारीख और समय की घोषणा करेगी।

जो किसान खरीद केंद्रों पर गेहूं बेचना चाहते हैं, वे एमपी ई-उपार्जन वेबसाइट के माध्यम से अपना नाम ऑनलाइन दर्ज कराएं। एमपी राज्य सरकार ने 15 अप्रैल को गेहूं खरीद के भरे हुए पंजीकरण फॉर्म आमंत्रित किए हैं। इच्छुक लोग इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं और आवंटित तिथियों पर खरीद केंद्रों में रबी सीजन का खाद्यान्न बेच सकते हैं।

अब तक यह एमपी पंजियान कृषि उपज मंडियों के माध्यम से किया जाता था लेकिन अब सरकार घरों में यह ऑनलाइन पंजीकरण की पेशकश कर रही है। यह एक मोबाइल ऐप के साथ-साथ एक ऑनलाइन पोर्टल के उपयोग से भी किया जा सकता है। एमपी ई उपार्जन पोर्टल से किसानों को आसानी से लाभ प्राप्त करने की सुविधा को ध्यान में रखते हुए किया गया था। पंजीकरण प्रक्रिया नि:शुल्क है और पोर्टल बनने के पिछले 5 वर्षों में अब तक लगभग 118.57 लाख किसानों ने एमएसपी के लिए पंजीकरण कराया है। साथ ही सरकार ने मध्य प्रदेश के 64 लाख से अधिक किसानों से 69111 करोड़ मूल्य का 2415 लाख मीट्रिक टन अनाज खरीदा है।

इस रबी सीजन की फसल के लिए किसान इस पोर्टल पर चना, सरसों, गेहूं और दाल को अधिक कीमत पर बेच सकते हैं। एक किसान को केवल पोर्टल पर पंजीकरण करना होगा। चालू वर्ष के लिए, सरकार ने पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की है। लगभग 21.06 लाख किसानों ने पोर्टल पर पंजीकरण कराया है। इसलिए, सभी किसान जिन्होंने अपनी फसल पंजीकृत की है, वे किसान द्वारा निर्धारित एक निश्चित समय पर अपनी उपज बेच सकेंगे।

 

एमपी ई-उपार्जन मोबाइल ऐप


राज्य सरकार ने राज्य के सभी किसानों को आसानी से अपनी सेवाएं प्रदान करने के लिए एक एंड्रॉइड ई-उपार्जन मोबाइल एप भी बनाया है। आप लिंक के माध्यम से या सीधे प्ले स्टोर के माध्यम से ऐप डाउनलोड कर सकते हैं।

कोई भी व्यक्ति एंड्रॉइड प्ले स्टोर के माध्यम से बहुत आसानी से ऐप डाउनलोड कर सकता है। आपको बस Play Store खोलना है और सर्च बार पर MP E-Uparjan को सर्च करना है। ऐप टाइटल 'ई-उपार्जन' पर टैप करें। उस विशेष ऐप के साथ स्थित इंस्टॉल बटन पर क्लिक करें। एप्लिकेशन आपके एंड्रॉइड डिवाइस पर इंस्टॉल हो जाएगा। अब आप इसका उपयोग कर सकते हैं और ऑनलाइन पोर्टल के साथ आने वाले लाभों का आनंद ले सकते हैं।

आप ऑनलाइन यूपर्जन पोर्टल से भी लिंक प्राप्त कर सकते हैं। जब आप अपने मोबाइल नंबर और आईडी के साथ प्रोक्योरमेंट पोर्टल पर रजिस्टर करेंगे तो यह लिंक दिखाई देगा। एपीके फाइल डाउनलोड करने के लिए लिंक पर क्लिक करें। डाउनलोड खत्म होने पर एपीके फाइल आपके मोबाइल फाइल फोल्डर में दिखाई देगी। फ़ाइल पर क्लिक करें और विकल्प इंस्टॉल करें चुनें। जैसे ही आप इंस्टॉल बटन पर क्लिक करेंगे, एप्लिकेशन उपयोग के लिए तैयार हो जाएगा।

ई-उपार्जन की पूर्ण प्रक्रिया


मप्र राज्य के किसान जो रबी सीजन की कृषि खरीद को राज्य सरकार को बेचना चाहते हैं और पैसा कमाना चाहते हैं, उन्हें नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करना चाहिए।

ई-उपार्जन की पूर्ण प्रक्रिया

  • किसान पंजीकरण : सबसे पहले, किसान भाइयों को एमपी ई-उपार्जन पोर्टल यानी www.mpeuparjan.nic.in के माध्यम से व्यक्तिगत विवरण का उपयोग करके पंजीकरण पूरा करना चाहिए। पंजीकरण पूरा होने के बाद, राज्य सरकार द्वारा किसानों को एक कोड के साथ एक पर्ची दी जाएगी।
  • गेहूं खरीद : एमपी राज्य सरकार गेहूं खरीद के संबंध में एसएमएस के माध्यम से किसानों को तिथि और समय की सूचना देगी।
  • किसान हितग्राही गेहूं उपार्जन के लिए दी गई तिथियों में अवश्य पधारें।
  • संबंधित निजी या सरकारी बैंक किसानों को खरीद रसीद और पर्ची देंगे। 
  • अंत में, राशि किसान के बैंक खाते में जमा की जाएगी।

एमपी ई उपार्जन के मुख्य उद्देश्य


  • पोर्टल के गठन के पीछे एकमात्र उद्देश्य मध्य प्रदेश राज्य के किसानों की आय में वृद्धि करना है।
  • आज के समय में लोगो के पास समय नहीं होता हैं इसलिए वह रोज रोज तहसील के चक्र नहीं लगा सकते हैं, इसलिए मध्य प्रदेश सरकार ने इस पोर्टल की मदद से लोगो का काम आसान कर दिया। 
  • अब सभी किसान लोग घर बैठे बैठे अपनी फसल की सभी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

MP E Uparjan की मुख्य विशेषताएं


  • ई-उपार्जन के माध्यम से पिछले 5 वर्षों में कुल 118.57 लाख किसानों का न्यूनतम समर्थन मूल्य नि:शुल्क पंजीकृत किया गया है, जिसमें 64.35 लाख किसानों से 2415.62 लाख एम. टी. अनाज खरीदा गया, जिसकी कीमत रु. 69111 करोड़ का भुगतान किया गया।
  • मप्र सरकार द्वारा गेहूं खरीद केंद्रों की कुल संख्या में वृद्धि की गई है।
  • गेहूं की फसल के लिए एमएसपी रुपये 1925 प्रति क्विंटल तय किया गया है।
  • इस वर्ष फसल खरीद पोर्टलों को बढ़ाया गया है। तो, सभी किसान जो पोर्टल से लाभान्वित होना चाहते हैं, वे जल्द ही पंजीकरण कर सकते हैं।
  • पिछले साल राज्य के किसानों को हुए नुकसान के कारण सरकार ने समाधान प्रदान करने के बारे में सोचा। इस प्रकार, पंजीकरण की पूरी प्रक्रिया को ऑनलाइन और किसानों के लिए आसान बनाना।
  • इस वर्ष के लिए एमपी ई-प्रोक्योरमेंट पोर्टल पर जो किसान अपनी उपज को एमएसपी पर बेचना चाहता है, उसे 3 संभावित तिथियां देनी होंगी। ये तिथियां किसान के अनुसार होंगी, कि वह कब विक्रय/उपार्जन केंद्रों पर फसल उपज ले सकेगा।
  • इस ई-प्रोक्योरमेंट पोर्टल के माध्यम से सार्वजनिक खरीद को भी आसान बनाया गया है।

एमपी ई उपार्जन के प्रमुख लाभ


  • किसान आसानी से ई उपार्जन रबी पोर्टल के माध्यम से पंजीकरण कर सकते हैं और विभिन्न सेवाएं प्राप्त कर सकते हैं।
  • कोई भी व्यक्ति इस पोर्टल से घर या किसी अन्य स्थान पर पंजीकरण कर सकता है।
  • MP E Uparjan Portal 2024 से राज्य का हर किसान लाभान्वित होता है।
  • न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए किसानों को इस बार 3 तारीख को दिया जाएगा, जिसमें अनाज क्रय केंद्र पर आएगा।
  • राज्य के किसान भी मोबाइल पर ऐप डाउनलोड करके इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • राज्य के किसान विभिन्न प्रकार की सेवाओं के लिए इस पोर्टल का उपयोग कर सकते हैं।
  • पोर्टल पर पंजीकरण अब सुविधाजनक है। इस प्रकार, किसान अपने घरों पर भी पंजीकरण कर सकते हैं।
  • पोर्टल के उपयोग को आसान बनाने के लिए ई-उपार्जन एप भी प्ले स्टोर पर उपलब्ध है।
  • एमएसपी पर गेहूं बेचने के लिए किसानों को एक विशेष कार्यक्रम प्रदान किया जाता है, जिस पर खरीद केंद्र पर अनाज की खरीद की जाएगी।

एमपी ई उपार्जन के लिए पात्रता मानदंड


MP E Uparjan Eligibility
  • पोर्टल पर पंजीकरण करने वाला किसान मध्य प्रदेश राज्य का किसान होना चाहिए।
  • मध्य प्रदेश के सभी किसान अपने आधार कार्ड नंबर और समग्र आईडी के माध्यम से पंजीकरण करा सकते हैं।
  • यदि आपके पास समग्र आईडी नहीं है, तो आप इस पोर्टल पर पंजीकरण नहीं कर सकते हैं, इसके लिए आपको पहले समग्र आईडी के लिए आवेदन करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के लिए आधार या पूरी आईडी होना अनिवार्य है।
  • मध्यप्रदेश ई-प्रोक्योरमेंट पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के लिए मोबाइल नंबर होना अनिवार्य है।
  • इस रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को पूरा करने के लिए आपका मोबाइल नंबर आधार से लिंक होना चाहिए।

एमपी ई उपार्जन के लिए आवश्यक दस्तावेज


Required Document for MP E Uparjan
  • आवेदन की समग्र आईडी
  • बैंक खाता पासबुक
  • आवास प्रामाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • ऋण पुस्तिका
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

ई उपार्जन 2024 खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP)


फसल (खरीफ)

खरीफ फसलो के लिए MSP (2024)

न्यूनतम समथन मूल्य में बढोतरी

धान (ग्रेड ए)

1,888

53

धान (सामान्य)

1,868

53

ज्वार (मल्डंदी)

2,640

70

ज्वार (शंकर)

2,620

70

रागी

3,295

145

बाजरा

2,150

150

तुअर(अरहर)

6,000

200

मक्का Maize

1,850

90

उड़द Udad

6,000

300

मूंग Moong

7,196

146

सूरजमुखी के बीज

5,885

235

मूंगफली Groundnut

5,275

185

तिल Seasum,Til

6,855

370

सोयाबीन (पीला)

3,880

170

कपास ( माध्यम प्रधान) Cotton

5,515

260

कपास (लम्बा प्रधान)

5,825

275

राम तिल

6,695

755


एमपी ई उपार्जन के लिए महत्वपूर्ण दिशानिर्देश


Important Guidelines for MP EUparjan
  • अपनी पावती संख्या को संभाल कर रखना सुनिश्चित करें, क्योंकि यह आपकी उपज को क्रय केंद्र पर बेचने के लिए आवश्यक होगी। इस नंबर से ही आपको बेंच मिलेगी।
  • ई-प्रोक्योरमेंट (e-procurement) पोर्टल पर पंजीकरण के लिए एक आधार संख्या और समग्र आईडी आवश्यक है। यदि आपके पास किसी तरह समग्र आईडी नहीं है, तो आपको सबसे पहले समग्र आईडी के लिए पंजीकरण करना होगा।
  • पोर्टल पर आवेदन करने वाले किसी भी व्यक्ति के पास अधिकारियों द्वारा आवश्यक सभी आईडी होनी चाहिए। यदि आपके पास पूर्ण आईडी नहीं है, तो आप समग्र आईडी के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के लिए मोबाइल नंबर बहुत जरूरी है। साथ ही, पंजीकरण के लिए आप जिस मोबाइल नंबर का उपयोग करते हैं, वह आपके आधार कार्ड से जुड़ा होना चाहिए।
  • यूरोपीय संघ पर पंजीकरण करने के लिए, पोर्टल के उपयोगकर्ताओं को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि उनकी भूमि का विवरण भी उनके आधार संख्या से जुड़ा हुआ है। यदि यह लिंक नहीं है तो किसान को क्षेत्र के पटवारी से संपर्क करना चाहिए और भूमि विवरण को लिंक करना चाहिए।

एमपी ई-उपार्जन पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें ?


एमपी ई-उपार्जन रबी 2024 किसान पंजीकरण आधिकारिक वेबसाइट पर किसान कोड के माध्यम से ऑनलाइन करना होगा। इसके अलावा, एंड्रॉइड फोन उपयोगकर्ता Google Play Store से euparjan kisan मोबाइल ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

किसानों से खाद्यान्न प्राप्त होने के बाद, उन्हें अनाज बेचने की रसीद और उनके द्वारा बेचे गए अनाज की राशि उनके बैंक खाते में सात कार्यालय दिवसों में जमा कर दी जाएगी। ई-प्रोक्योरमेंट सॉफ्टवेयर के माध्यम से अनाज को संग्रहण केंद्र में छोड़ा जाता है और बारदानों को छोड़ा जाता है और बारदानों को प्राप्त किया जाता है। उपार्जन केन्द्र पर खाद्यान्न उपार्जन की समस्त प्रक्रिया ई-उपार्जन साफ्टवेयर के माध्यम से ही की जायेगी।

सभी पात्र आवेदक जो MP E Uparjan 2024-25 Online Registration करना चाहते हैं, तो सभी निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और ऑनलाइन आवेदन पत्र को लागू करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें :

एमपी ई उपार्जन 2024 ऑनलाइन आवेदन करने के स्टेप (MP E Uparjan Application Form)


  • स्टेप 1- आधिकारिक वेबसाइट एमपी ई उपार्जन यानी mpeuparjan.nic.in पर जाएं।
  • स्टेप 2- होमपेज पर, विकल्प “रबी 2024” लिंक पर क्लिक करें।
  • स्टेप 4- अब दिए गए सभी निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और फिर आपको अपना मोबाइल नंबर, किसान कोड या समग्र आईडी दर्ज करना होगा, उसके बाद आपको सर्च बटन पर क्लिक करना होगा।
  • स्टेप 5- पंजीकरण पृष्ठ आपके डिवाइस की स्क्रीन पर प्रदर्शित होगा।
  • स्टेप 6- पंजीकरण पृष्ठ में, पूछी गई सभी जानकारी जैसे कि आपके बैंक खाते का विवरण, भूमि के स्वामित्व का विवरण और खरीद केंद्र का विवरण दर्ज करें।
  • स्टेप 7- सभी जानकारी भरने के बाद सभी जानकारियों को दोबारा चेक करें और आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 8- सफल पंजीकरण के बाद, आपको तुरंत आवेदन संख्या और पावती संख्या मिल जाएगी।
  • स्टेप 9- पावती नंबर (पावती नंबर) के माध्यम से आप अपने उत्पाद को क्रय केंद्र तक ले जा सकेंगे और एक बेंच प्राप्त कर सकेंगे।
  • स्टेप 10- अंत में, इस तरह आपका पंजीकरण सफलतापूर्वक पूरा हो जाएगा।

ई उपार्जन ऐप डाउनलोड कैसे करें (MP E-Uparjan Kisan App Download)


  • स्टेप 1- सर्वप्रथम आप अपनी फ़ाइल प्रबंधक ऐप को खोले
  • स्टेप 2- फाइल प्रवन्धक/मेनेजर में डाउनलोड नाम के फोल्डर में जाये
  • स्टेप 3- डाउनलोड फोल्डर में ई-उपार्जन एप (Euparjan.apk) फाइल पर क्लिक करे
  • स्टेप 4- euparjan.apk फ़ाइल पर क्लिक करें करने के बाद आप इंस्टॉल पर क्लिक करें करे और eparjan ऐप को इंस्टॉल करें
  • स्टेप 5- इंस्टॉल पर क्लिक करने के बाद इंतजार करें, कुछ समय बाद ऐप आपके मोबाइल फोन में इंस्टॉल हो जाएगी।

एमपी ई उपार्जन किसान पंजीकरण सत्यापन (MP E Uparjan Farmer Registration Verification)


रबी फसल खरीद के लिए इस वर्ष पंजीकरण प्रक्रिया के लिए कुछ बदलाव हैं। तहसीलदार या एसडीएम द्वारा सत्यापन के बाद निम्नलिखित बिंदुओं पर विचार करना महत्वपूर्ण है:
  • पंजीकरण केंद्र समितियों के अलावा अन्य माध्यमों से पंजीकरण कराने वाले किसानों को भी सत्यापन की आवश्यकता होगी।
  • जिम्मेदार तहसीलदार या एसडीएम किसान के कब्जे वाली जमीन के नाम के अंतर को भी सत्यापित करेंगे।
  • भूमि का रकबा बढ़ाना
  • 4 एकड़ से अधिक की भूमि रखने वाले किसानों के लिए सत्यापन एक आवश्यक प्रक्रिया है।
  • यदि निरीक्षण प्राधिकारी को कोई त्रुटि दिखाई देती है, तो उस विशेष पंजीकरण को अस्वीकार कर दिया जाएगा।

एमपी ई उपार्जन 2024 आवेदन स्थिति खोजें (Search MP E Uparjan Application Status)


EUparjan का पोर्टल भी पोर्टल पर ही आवेदन देखने की पेशकश करता है। चूंकि पंजीकरण प्रक्रिया अब तक पूरी हो चुकी है, पोर्टल पर पंजीकृत और योजना के लिए आवेदन करने वाले सभी किसान भी पोर्टल के माध्यम से अपने आवेदन खोज सकते हैं। तो, कोई भी किसान जो अपने आवेदन की जांच करना चाहता है, इन चरणों का पालन कर सकता है:
  • होमपेज पर 'किसान पंजीयन/आवेदन सर्च' प्रदर्शित करने वाले विकल्प पर क्लिक करें या आप 'रबी' के विकल्प पर भी क्लिक कर सकते हैं और फिर अगले पृष्ठ पर 'किसान पंजीयन/आवेदन सर्च' पर क्लिक कर सकते हैं।
  • एमपी-ए-उपार्जन-पंजीकरण-खोज-उपार्जन
  • अगले पेज पर आपको एक एप्लीकेशन फॉर्म दिखाई देगा। जिला, मोबाइल नंबर, कैप्चा कोड चुनें और सर्च पर क्लिक करें ("किसान सर्च करें")।

मध्य प्रदेश ई उपार्जन हेल्पलाइन नंबर


Helpline Number
खरीद केंद्रों पर गेहूं बेचने या पंजीकरण कराने में किसी भी शिकायत, प्रश्न या किसी भी कठिनाई के लिए, किसान संपर्क कर सकते हैं :

एमपी ई उपार्जन संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)


मैं एमपी ई उपार्जन पोर्टल पर अपना पंजीकरण कैसे देख सकता हूं?
पंजीकरण देखने के लिए, उपयोगकर्ता ई उपार्जन के आधिकारिक पोर्टल पर जा सकते हैं और लेख में बताए गए चरणों का पालन कर सकते हैं।

प्याज की फसल के लिए पंजीकरण कब से शुरू होगा?
उच्च अधिकारियों द्वारा अभी तक प्याज की खरीद के लिए कोई दिशा-निर्देश उपलब्ध नहीं हैं। इसे खरीद के कार्यक्रम के अनुसार जारी किया जाएगा।

ई उपार्जन पोर्टल में चने के लिए MSP क्या है?
पोर्टल के तहत चने की खरीद का मूल्य 5100 रुपये प्रति क्विंटल है।

ई उपार्जन के लिए गेहूं की खरीद कब शुरू होगी?
अन्य तीन फसलों यानी मसूर, चना और सरसों के साथ गेहूं की खरीद भी जल्द शुरू होगी.

क्या मुझे हर बार नई फसल के लिए पंजीकरण कराने की आवश्यकता है?
नहीं। E-Uparjan पोर्टल पर, एक बार पंजीकृत किसान को नई फसल बेचने के लिए फिर से पंजीकरण करने की आवश्यकता नहीं है।