Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

Bhavantar Bharpai Yojana | हरियाणा भावांतर भरपाई योजना ऑनलाइन आवेदन, एप्लीकेशन स्टेटस, पात्रता और लाभ

भावांतर भरपाई योजना हरियाणा 2021 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन @hortharyanaschemes.org.in


Haryana Bhavantar Bharpai Yojana Apply | भावांतर भरपाई योजना पंजीकरण स्टेटस | Haryana Bhavantar Bharpai Yojana Application Form


Latest News Update : 
हरियाणा सरकार ने अब भावांतर भरपाई योजना में गाजर, मटर, किन्नू, अमरूद, शिमला मिर्च और बैगन को शामिल किया है। गाजर का मूल्य 700 रुपये प्रति क्विंटल, किन्नू का मूल्य 1100 रुपये प्रति क्विंटल और मटर का मूल्य 1,100 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना होगा।

कृषि श्रमिकों के इष्टतम लाभ न कमाने का मुख्य कारण यह है कि उन्हें अक्सर कम दरों पर अपनी फसल बेचने के लिए मजबूर किया जाता है। यह इन किसानों को अपने निवेश की वसूली से रोकता है। यह अक्सर किसानों को आत्महत्या करने के लिए प्रेरित करता है। हरियाणा की राज्य सरकार एक नई किसान विकास योजना लेकर आई है। इसे Bhavantar Bharpai Yojana कहा जाता है और यह कृषि श्रमिकों के हितों की रक्षा करेगी। हरियाणा में भावांतर भरपाई योजना दिसंबर 2017 में कृषि श्रमिकों की बेहतरी के लिए राज्य में शुरू की गई थी। राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कृषि श्रमिकों को राहत प्रदान करने के लिए इस योजना को लागू किया था। मई 2018 को, कार्यक्रम के लिए ऑनलाइन पंजीकरण अंततः प्रकाशित किया गया था। अब जबकि सभी तिथियों की घोषणा कर दी गई है, किसान तदनुसार पंजीकरण पूरा कर सकते हैं। इस लेख के माध्यम से, हमने Bhavantar Bharpai Yojana Haryana in Hindi में विस्तृत जानकारी साझा की है, इसलिए हमारे लेख को अंत तक पढ़ें और योजना का लाभ उठाएं।

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना ऑनलाइन आवेदन, एप्लीकेशन स्टेटस, पात्रता और लाभ

हरियाणा राज्य सरकार फसलों के मूल्य घाटे को पूरा करने के लिए किसानों के लिए भावांतर भरपाई योजना शुरू करने जा रही है। हरियाणा भावांतर भरपाई योजना में यदि किसी बागवानी उत्पादक को किसी मंडी में उसकी उपज का कम दाम मिलता है, तो राज्य सरकार मुआवजा या मूल्य घाटा प्रदान करेगा। यह Bhavantar Bharpai Yojana Haryana किसानों को उनकी फसलों के विविधीकरण के साथ-साथ एक निश्चित न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित करके जोखिम को कम करने में मदद करेगी। सरकार यदि किसान अपनी सब्जियां निर्धारित आधार मूल्य से कम पर बेचते हैं तो उन्हें मुआवजा (भरपाई) प्रदान किया जाएगा। 

हरियाणा भावांतर भरपाई पोर्टल पंजीकरण प्रक्रिया fasal.haryana.gov.in पर शुरू होती है। हरियाणा सरकार मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर भावांतर भरपाई योजना ऑनलाइन आवेदन पत्र आमंत्रित कर रहा है। लाभ प्राप्त करने के लिए, सभी किसानों को फ़सल हरियाणा सरकार पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा, न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) के साथ दस्तावेजों की सूची, समयसीमा, फसलों के विवरण की जांच करनी होगी। बाद में, किसान किसान रिकॉर्ड खोज (खरीफ / रबी सीजन) कर सकते हैं, निर्धारित कार्यक्रम ekharid.haryana.gov.in पर कर सकते हैं।

सभी किसान निर्धारित तिथियों को देख सकते हैं क्योंकि पंजीकरण, सत्यापन, अपील लाइनें केवल निर्दिष्ट अवधि के भीतर ही खुली हैं। इसलिए, सभी किसानों को इस समय सीमा के दौरान ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा। प्रोत्साहन राशि प्राप्त करने के लिए किसानों को अपनी फसल को J-Form के माध्यम से बेचना होगा और फिर इसे BBY Portal पर अपलोड करना होगा। बाद में, राज्य सरकार मुआवजे की राशि सीधे किसानों के आधार से जुड़े बैंक खाते में 15 दिनों के भीतर ट्रांसफर कर दी जाएगी।

सभी आवेदक जो Haryana Bhavantar Bharpai Yojana Online Apply करने के इच्छुक हैं, फिर आधिकारिक अधिसूचना डाउनलोड करें और सभी पात्रता मानदंड और आवेदन प्रक्रिया को ध्यान से पढ़ें। हम “हरियाणा भावांतर भरपाई योजना 2021” के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्रदान करेंगे जैसे योजना लाभ, पात्रता मानदंड, योजना की मुख्य विशेषताएं, आवेदन की स्थिति, आवेदन प्रक्रिया और बहुत कुछ।

Haryana Bhavantar Bharpai Yojana Details

Name of Scheme

Haryana Bhavantar Bharpai Yojana (BBY)

in Language

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना

Launched by

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टरी द्वारा

Beneficiaries

राज्य के किसान

Major Benefit

किसानों को कृषि में विविधता लाने के लिए प्रोत्साहित करना।

Scheme Objective

फसलों के लिए उचित मूल्य उपलब्ध कराना

Scheme under

राज्य सरकार

Name of State

हरियाणा

Post Category

योजना

Official Website

hortharyanaschemes.org.in

महत्वपूर्ण तिथियाँ

Event

Dates

Bhavantar Bharpai Yojana Haryana Start Date

Last Date to Apply Online

महत्वपूर्ण लिंक

Event

Links

Apply Online

Registration | Login

See Details Of Registered Farmer

Click Here

Haryana Bhavantar Bharpai Yojana 2021

Official Website


हरियाणा भावांतर भरपाई योजना क्या है ?


Haryana Bhavantar Bharpai Yojana Online Application Form PDF Download : हरियाणा सरकार ने भावांतर भरपाई योजना शुरू की और शुरुआत में इस योजना में आलू, प्याज, टमाटर और गोभी को शामिल किया था। टमाटर और आलू के लिए, राज्य सरकार ने भावांतर भारती योजना के लिए 400-400 रुपये प्रति क्विंटल की कीमत तय की है, जबकि प्याज और फूलगोभी के लिए सरकार ने 500-500 रुपये प्रति क्विंटल की कीमत तय की है।

Bhavantar Bharpai Yojana

लॉकडाउन के चलते फल-सब्जी की खेती करने वाले किसानों को काफी नुकसान हुआ है। खरीददारों की अनुपलब्धता और परिवहन के साधनों की कमी के कारण किसान अपने फल और सब्जियां औने-पौने दामों पर बेचने को मजबूर हैं। स्थिति यह है कि किसानों को उनकी उपज की कीमत नहीं मिल रही है, मुनाफा तो दूर है। किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए उन्होंने हरियाणा में 'भावंतर भरपाई योजना' के लिए पंजीकरण शुरू कर दिया है। जो किसान लॉकडाउन के कारण इस योजना के तहत अपना पंजीकरण नहीं करा पाए उन्हें फिर से मौका दिया जा रहा है।

इन फलों और सब्जियों की खेती करने वाले किसान 'Meri Fasal Mera Byora' पोर्टल www.fasalhry.in पर जाकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं। इसके अलावा किसान अपने नजदीकी ई-दिशा से विपणन बोर्ड एवं उद्यान विभाग के कार्यालय में आकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं।

Bhavantar Bharpai Yojana Haryana प्रथम चरण


राज्य सरकार ने कुछ नियम निर्धारित किए हैं, जिनका किसानों को मुआवजा पाने के लिए पालन करना होगा। योजना के क्रियान्वयन के पहले चरण के दौरान राज्य प्राधिकरण ने केवल चार फसलों के नाम का उल्लेख किया है। ये हैं प्याज, आलू, फूलगोभी और टमाटर।

Bhavantar Bharpai Yojana

भावांतर भरपाई योजना हरियाणा में शामिल फसलों की सूची


योजना के अंतर्गत आने वाली फसलें पहले चरण में संरक्षित मूल्य और निश्चित उत्पादन :
  • चार फसलें: टमाटर, प्याज, आलू और फूलगोभी।
  • पहचानी गई फसलों का संरक्षित मूल्य और निश्चित उत्पादन।

क्रं सख्या

फसल का नाम

संरक्षित मूल्य(रुपये प्रति क्विंटल )

निर्धारित उत्पादन(क्विंटल प्रति एकड़)

1

आलू

500

120

2

प्याज

650

100

3

टमाटर

500

140

4

फूलगोभी

750

100

5

गाजर

700

100

6

मटर

1100

50

7

शिमला मिर्च

900

80

8

बैंगन

500

110

9

भिन्डी

1050

70

10

मिर्च

950

70

11

लौकी

450

110

12

करेला

1350

40

13

हल्दी

1400

80

14

पत्ता गोभी

650

100

15

लहसुन

2300

50

16

मूली

450

100

17

अमरूद

1300

70

18

आम

1950

50

19

किन्नू

1100

104


भावांतर भरपाई योजना पंजीकरण समय की अवधि (Bhavantar Yojana Registration Time Period)


हमने इस योजना के तहत पंजीकरण के लिए निर्धारित समय अवधि की सूची नीचे दी है।

क्रं सख्या

फसल का नाम

पंजीकरण अवधि आरंभ तिथि

पंजीकरण अवधि समापन तिथि

सत्यापन अवधि तक

सत्यापन इत्यादि के विरुद्ध अपील अवधि तक

बिक्री अवधि दौरान

1.

आलू

15 सितंबर

31 अक्तूबर

30 नवम्बर

15 दिसम्बर

1 दिसम्बर – 31 मार्च

2.

प्याज

15 दिसम्बर

15 फरवरी

15 मार्च

25 मार्च

1 अप्रैल – 31 मई

3.

टमाटर

15 दिसम्बर

15 फरवरी

15 मार्च

25 मार्च

1 अप्रैल- 15 जून

4.

फूलगोभी

15 सितंबर

31 अक्तूबर

30 नवम्बर

15 दिसम्बर

1 दिसम्बर – 31 मार्च

5.

गाजर

1 अक्तूबर

30 नवम्बर

15 दिसम्बर

31 दिसम्बर

1 दिसम्बर – 28 फ़रवरी

6.

मटर

1 अक्तूबर

30 नवम्बर

15 दिसम्बर

31 दिसम्बर

1 दिसम्बर – 28 फरवरी

7.

शिमला मिर्च

10 फरवरी

15 मार्च

31 मार्च

15 अप्रैल

15 अप्रैल – 30 जून

8.

बैंगन

10 फरवरी

15 मार्च

31 मार्च

15 अप्रैल

15 अप्रैल – 30 जून

9.

भिन्डी

1 फरवरी

31 मार्च

31 मार्च

15 अप्रैल

15 अप्रैल – 30 जून

10.

मिर्च

1 फरवरी

31 मार्च

31 मार्च

15 अप्रैल

15 अप्रैल – 30 जून

11.

लौकी

1 फरवरी

31 मार्च

31 मार्च

15 अप्रैल

15 अप्रैल – 30 जून

12.

करेला

1 फरवरी

31 मार्च

31 मार्च

15 अप्रैल

15 अप्रैल – 30 जून

13.

हल्दी

1 जून

31 जुलाई

15 अगस्त

15 अगस्त

1 अप्रैल – 30 अप्रैल

14.

पत्ता गोभी

1 अक्तूबर

30 नवम्बर

30 नवम्बर

15 दिसम्बर

1 दिसम्बर – 31 मार्च

15.

लहसुन

1 अक्तूबर

30 नवम्बर

30 नवम्बर

15 दिसम्बर

1 अप्रैल – 15 मई

16.

मूली

1 अक्तूबर

30 नवम्बर

30 नवम्बर

15 दिसम्बर

1 दिसम्बर – 31 मार्च

17.

अमरूद

15 अप्रैल

15 मई

15 जून

30 जून

1 जुलाई – 31 अगस्त

18.

आम

1 मार्च

15 मई

15 मई

31 मई

15 जून – 31 अगस्त

19.

किन्नू

1 सितंबर

30 नवम्बर

15 दिसम्बर

31 दिसम्बर

1 दिसम्बर – 28 फरवरी



भावांतर भरपाई योजना हरियाणा 2021 के उद्देश्य


  • Bhavantar Bharpai Yojana Haryana का प्राथमिक उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि किसानों को अपनी उपज की बिक्री पर संकट का सामना न करना पड़े। इसके अलावा, सरकार खेती की लागत के बराबर आधार मूल्य तय करेगा।
  • बाजार में सब्जियों और फलों की कम कीमत के दौरान संरक्षण मूल्य द्वारा किसानों के जोखिम को कम करना।
  • किसानों को कृषि में विविधता लाने के लिए प्रोत्साहित करना।

Haryana Bhavantar Bharpai Yojana की मुख्य विशेषताएं


  • कृषि विकास - इस योजना को किसानों के निवेश की सुरक्षा के लिए डिजाइन और विकसित किया गया है।
  • फसल का विक्रय मूल्य निर्धारित करना – इस कार्यक्रम से राज्य का कृषि विभाग इन फसलों का न्यूनतम विक्रय मूल्य निर्धारित करेगा। यदि किसान को कम कीमत पर उपज बेचने के लिए मजबूर किया जाता है, तो राज्य सरकार घाटे का भुगतान करेगी।
  • चार महत्वपूर्ण फसलें - अभी तक राज्य सरकार ने चार महत्वपूर्ण फसलों की पहचान की है। आलू, टमाटर, फूलगोभी और प्याज ये चुनिंदा फसलें हैं।
  • जे-फॉर्म जमा करना - मुआवजा पाने के लिए, किसानों को फसल बेचनी होगी, और विवरण जे-फॉर्म में अपलोड करना होगा। एक बार भरने की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद, इसे आधिकारिक योजना की वेबसाइट पर अपलोड करना होगा।
  • केवल निश्चित समय अवधि के लिए - ऑनलाइन पंजीकरण पूरे वर्ष के लिए खुला नहीं होगा। प्रत्येक फसल का एक निश्चित समय होता है, जिसके भीतर किसानों को ऑनलाइन पंजीकरण पूरा करना होगा।
  • किसानों के लिए निश्चित आय सुनिश्चित करना - इस योजना का मुख्य उद्देश्य कृषि श्रमिकों की आय की रक्षा करना है। राज्य सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि प्रत्येक किसान को कम से कम रु. 48000 से रु. प्रत्येक एकड़ भूमि के लिए 56000 जो विशिष्ट चार उपज की खेती के लिए उपयोग किया जाता है।
  • भूमि के स्वामित्व का प्रकार - ऐसा कोई कठोर नियम नहीं है कि केवल खेत मालिक ही यह वित्तीय सहायता प्राप्त कर सकेंगे। किसान भूखंड का वास्तविक मालिक है या नहीं, या उसके पास किराए या पट्टे पर है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा। आवश्यकताओं को पूरा करने वाला कोई भी किसान आवेदन कर सकेगा।
  • 15 दिनों के भीतर मुआवजा भुगतान - Bhavantar Bharpai Yojana Haryana के मसौदे के अनुसार, एक बार पंजीकृत किसान मुआवजे के लिए आवेदन करता है, तो राज्य कृषि विभाग आवश्यक सत्यापन करेगा और 15 कार्य दिवसों के साथ भुगतान भेज देगा।
  • बैंक खाते में भुगतान - केवल वे किसान ही इस मुआवजे के लिए आवेदन कर सकेंगे जिनके पास बैंक खाता है, और जिन्होंने अपने आधार कार्ड को खातों से सफलतापूर्वक जोड़ा है।

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना के प्रमुख लाभ


  • सरकार ने 'भावंतर भरपाई योजना' के तहत फसलों के दाम तय कर दिए हैं। तय मूल्य से कम कीमत पर फसल बेचने वाले किसानों की स्थिति में अंतर की भरपाई सरकार करेगी।
  • सब्जी काश्तकारों को जोखिम मुक्त बनाना।
  • योजनान्तर्गत टमाटर, प्याज, आलू एवं फूलगोभी का संरक्षित मूल्य निर्धारित करना।
  • Bhavantar Bharpai Yojana Haryana का लाभ भूस्वामी, काश्तकार या किराएदार लिया जा सकता है।
  • योजनान्तर्गत उक्त चारों फसलों पर 48000/- से 56000/- प्रति एकड़ की आय सुनिश्चित करना।
  • सरकार BBY E-Portal पर पंजीकृत किसानों पर संरक्षित मूल्य तक मूल्य के अंतर की भरपाई करेगी।
  • राज्य सरकार फसलों के विविधीकरण पर जोर देता है। इसके अलावा, किसानों को अपने फल, सब्जियां और फूल बेचने के लिए दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के बाजारों तक पहुंच प्राप्त होगी।
  • किसानों को अपने उत्पादों को न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम कीमत पर नहीं बेचना पड़ेगा। अगर उन्हें करना है, तो सरकार मूल्य (भाव) में घाटा (अंतर) के बराबर मुआवजा (भरपाई) प्रदान करेगा।

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना के पात्रता मानदंड


Haryana Bhavantar Bharpai Yojana Eligibility
  • इस योजना के तहत केवल हरियाणा राज्य के किसान ही पात्र माने जाएंगे।
  • आवेदक हरियाणा का स्थायी निवासी होना चाहिए।

भावांतर भरपाई योजना हरियाणा के लिए आवश्यक दस्तावेज


Required Document for Haryana Bhavantar Bharpai Yojana
  • आवेदक का आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • पते का सबूत
  • फसलों का विवरण
  • बोई गई फसल का विवरण
  • बैंक खाता पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना में पंजीकरण हेतु दिशा निर्देश


Guidelines for Registration
  • इस योजना के तहत किसानों को बुवाई अवधि के दौरान बागवानी एक्सपोजर (BBI) ई-पोर्टल के माध्यम से मार्केटिंग बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण करना अनिवार्य है।
  • किसान प्रमाणित क्षेत्र से असंतुष्ट होने पर अपील दायर करने का प्रावधान किया गया है।
  • निर्माता का मुफ्त आवेदन।
  • इस योजना के तहत पंजीकरण की सुविधा सर्व सेवा केंद्र/ई-दिशा केंद्र/वितरण बोर्ड/बागवानी विभाग/कृषि विभाग और इंटरनेट कियोस्क पर उपलब्ध होगी।
  • हरियाणा भावांतर भारती योजना में पंजीकरण सत्यापन अपील का निर्गम नीचे दी गई विधि से स्वीकार्य होगा।
  • यदि आप समय पर इस योजना के तहत अपना पंजीकरण नहीं कराते हैं, तो आप इस योजना का लाभ प्राप्त करने से वंचित रह जाएंगे।
  • इस योजना के तहत प्रोत्साहन राशि का लाभ उठाने के लिए लाभार्थी को उत्पाद बेचने पर "जे" फॉर्म लेना आवश्यक है।
  • राज्य के जो किसान हरियाणा भावांतर भारती योजना के तहत लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा।
  • लाभार्थी के पास बैंक खाता होना अनिवार्य है और यह बैंक खाता भी आधार कार्ड से जुड़ा होना चाहिए।

Also Read : 

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करे ?


हरियाणा सरकार कुल कृषि योग्य क्षेत्र के 25 प्रतिशत भाग को बागवानी के अंतर्गत लाने पर विशेष बल दिया जाएगा। इस कारण राज्य सरकार गन्नौर, सोनीपत में लगभग 500 एकड़ क्षेत्र में एक अंतर्राष्ट्रीय सब्जी और फल बाजार स्थापित करेगा। इसके अलावा सरकार बागवानी खेती को बढ़ावा देने के लिए गुरुग्राम में फूलों की मंडी भी शुरू करेगी।

बागवानी विभाग द्वारा पंजीकरण के लिए चिरायु शेष अभियान चलाकर किसानों को जागरूक किया जा रहा है। ताकि किसान मेरे फसल-खदान विवरण पोर्टल (fasalhry.in) के माध्यम से स्वयं सर्वेक्षण सेवा केंद्र, ई-दिशा केंद्र, विपणन बोर्ड, बागवानी विभाग, कृषि विभाग और इंटरनेट कियोस्क के माध्यम से पंजीकृत हो सकें। किसानों को कोई परेशानी न हो, इसके लिए वे अपने जिला स्तरीय उद्यान अधिकारी एवं सब्जी मंडी में जिला विपणन प्रवर्तन अधिकारी, मंडी बोर्ड से संपर्क कर सकते हैं।

इसरो-इज़राइल परियोजना के तहत, राज्य सरकार विभिन्न फलों और सब्जियों के लिए उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना की है। इसके अलावा, सरकार जल्द ही दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए इसी तरह की अन्य परियोजनाएं शुरू करेगा। यह भावांतर भरपाई योजना हरियाणा पूरे राज्य में किसानों को उनके श्रम के अनुसार धन उपलब्ध कराकर उनकी स्थिति में सुधार करेगी। इसके अलावा, यह योजना किसानों के जीवन स्तर को ऊपर उठाएगी और अपनी आजीविका कमाने के अवसर प्रदान करेगी। लिंक का उपयोग करके ई-खरिद खाता लॉगिन किया जा सकता है - https://ekharid.in/Account/Login#no-back-button

सभी पात्र आवेदक जो Haryana Bhavantar Bharpai Yojana Online Registration करना चाहते हैं, तो सभी निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और ऑनलाइन आवेदन पत्र को लागू करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें :

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना 2021 ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया (Haryana Bhavantar Bharpai Yojana Application Form)


  • स्टेप 1- हरियाणा भावांतर भरपाई योजना की आधिकारिक वेबसाइट यानी hortharyanaschemes.org.in पर जाएं।
Haryana Bhavantar Bharpai Yojana

  • स्टेप 2- होमपेज पर आपको किसान टेबल का एक सेक्शन दिखाई देगा। आपको इस सेक्शन के तहत किसान को पंजीकृत करने का विकल्प दिखाई देगा। आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना है।

Haryana Bhavantar Bharpai Yojana


  • स्टेप 3- पंजीकरण फॉर्म पेज स्क्रीन पर प्रदर्शित होगा।
  • स्टेप 4- अब आवश्यक विवरण दर्ज करें (सभी विवरण जैसे कि किसान का स्थान, किसान का विवरण, भूमि विवरण, बैंक विवरण और अन्य जानकारी का उल्लेख करें) और दस्तावेज अपलोड करें।
  • स्टेप 5- आवेदन को अंतिम रूप से जमा करने के लिए सबमिट बटन पर क्लिक करें।

पंजीकृत किसानों के विवरण की जांच कैसे करें ? (Check Details of Registered Farmers)


  • स्टेप 1- हरियाणा भावांतर भरपाई योजना की आधिकारिक वेबसाइट यानी hortharyanaschemes.org.in पर जाएं।
  • स्टेप 2- इस पेज पर आपको नीचे किसानों के विवरण का विकल्प दिखाई देगा। आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 3- किसान पृष्ठ का विवरण स्क्रीन पर प्रदर्शित होगा।
Haryana Bhavantar Bharpai Yojana
  • स्टेप 4- इस पेज पर आपको एक किसान का विवरण देखने के लिए एक फॉर्म दिखाई देगा, आपको इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे किसान नंबर या मोबाइल नंबर या आधार कार्ड नंबर आदि को भरना होगा।
  • स्टेप 5- इसके बाद आपको गो बटन पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 6- गो बटन पर क्लिक करने के बाद अगले पेज पर आपको किसान की डिटेल मिल जाएगी।

भावांतर भरपाई योजना हेल्पलाइन नंबर


Helpline Number 
यदि किसी किसान को योजना से संबंधित कोई शंका है और वह पंजीकरण की प्रक्रिया को लेकर असमंजस में है तो वह अखिल भारतीय टोल-फ्री नंबर 18001802060 पर कॉल करके और सीधे बात करके भी मदद ले सकता है। आईडी hsamb@hry.nic.in पर ईमेल भेजकर भी आवश्यक जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

Post a Comment

0 Comments