Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

e-RUPI Digital Payment Solution | ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सोल्युशन लाभ और उपयोग कैसे करें, e-RUPI ऐप डाउनलोड करें

ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान समाधान 2021 : ERupee APP Download करें @npci.org.in 


E rupi modi app | E rupi digital download | E rupi in hindi | E rupi app | E rupi download | ERupee APP download | ERupee login | Download e Rupi App APK Mobile Application | e RUPI Features & Working Process


e-RUPI Latest News Update : How to buy e rupi, ई-वाउचर-आधारित डिजिटल पेमेंट सॉल्यून E RUPI 
  • पीएम नरेंद्र मोदी ने 2 अगस्त 2021 शाम 4.00 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए e-RUPI नाम से एक डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है।
  • भारतीय स्टेट बैंक (SBI), ICICI बैंक, HDFC बैंक, पंजाब नेशनल बैंक (PNB), Axis बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा e-RUPI कूपन के लिए जारी करने और मोचन दोनों सुविधाएं प्रदान करेंगे।
  • इस बीच, केनरा बैंक, इंडसइंड बैंक, इंडियन बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया अभी के लिए केवल ई-आरयूपीआई कूपन जारी करेंगे।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी 2 अगस्त 2021 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए E-Voucher आधारित डिजिटल भुगतान समाधान e-RUPI लॉन्च किया। e-RUPI Digital Payment के लिए एक कैशलेस और संपर्क रहित साधन है। यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग के माध्यम से लाभार्थियों के मोबाइल फोन पर पहुंचा दिया जाता है।

e-RUPI Digital Payment Solution

e-RUPI बिना किसी भौतिक इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ सेवाओं के प्रायोजकों को जोड़ता है। ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सोल्युशन सुनिश्चित करता है कि लेन-देन पूरा होने के बाद ही सेवा प्रदाता को भुगतान किया जाए। प्रकृति में प्रीपेड होने के कारण, यह किसी भी मध्यस्थ की भागीदारी के बिना सेवा प्रदाता को समय पर भुगतान का आश्वासन देता है।

e-RUPI का एकमुश्त भुगतान तंत्र उपयोगकर्ताओं को सेवा प्रदाता पर कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बिना वाउचर को भुनाने की अनुमति देगा। E-RUPI Platform इसे भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से विकसित किया है।

ई-रूपी को एनपीसीआई (National Payments Corporation of India) द्वारा तीन विभागों जैसे राष्ट्र स्वास्थ्य प्राधिकरण, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और वित्तीय सेवा विभाग के सहयोग से विकसित किया गया है। यह एक व्यक्तिगत और उद्देश्य-विशिष्ट डिजिटल भुगतान समाधान होने का दावा किया जाता है।

हम "ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सोल्युशन 2021" के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्रदान करेंगे जैसे लेख लाभ, लेख की मुख्य विशेषताएं, भुगतान की स्थिति, आवेदन प्रक्रिया और बहुत कुछ।

eRupee ऐप डिजिटल भुगतान 2021 – अवलोकन

Name of Article

e-RUPI Digital Payment Solution

in Language

ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सोल्युशन

Launched by

भारत सरकार

Beneficiaries

भारत के नागरिक

Major Benefit

डिजिटल भुगतान करने के लिए कैशलेस और संपर्क रहित साधन प्रदान करना

Article Objective

एक डिजिटल भुगतान प्रणाली वातावरण प्रदान करने के लिए

Article under

केन्द्रीय सरकार

Name of State

अखिल भारतीय

Post Category

लेख

Official Website (ERupee website)

www.npci.org.in

 

महत्वपूर्ण तिथियाँ

Event

Dates

Launch Date

02 August 2021

Launch Timing

4.30 PM`

 

महत्वपूर्ण लिंक

Event

Links

Download eRupee App Mobile Application

Click Here

digital payment solution e-RUPI PIB

Click Here

e-RUPI Digital Payment Official Portal

Official Website



ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सोल्युशन क्या है ?


e-RUPI Digital Payment 2021 : ई-रूपी डिजिटल भुगतान के लिए एक कैशलेस और संपर्क रहित साधन है। यह क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग के आधार पर ई-वाउचर के रूप में कार्य करता है, जिसे लाभार्थियों के मोबाइल फोन पर पहुंचाया जाता है।

e-RUPI Digital Payment 2021

इस निर्बाध एकमुश्त भुगतान तंत्र के उपयोगकर्ता सेवा प्रदाता पर कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बिना वाउचर को भुनाने में सक्षम होंगे। इसे National Payments Corporation of India ने अपने UPI प्लेटफॉर्म पर वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से विकसित किया है।

PMO के एक बयान के अनुसार, सरकार सुशासन की दृष्टि से इलेक्ट्रॉनिक वाउचर की अवधारणा को आगे बढ़ाने का लक्ष्य लेकर चल रही है। डिजिटल भुगतान के लिए कैशलेस और संपर्क रहित साधन होने के अलावा, ई-आरयूपीआई एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है, जिसे लाभार्थियों के मोबाइल पर पहुंचाया जाता है।

“ई-आरयूपीआई इस बात का उदाहरण है कि भारत कैसे आगे बढ़ रहा है और 21वीं सदी में लोगों को उन्नत तकनीक की मदद से जोड़ रहा है। मुझे खुशी है कि इसकी शुरुआत उस साल हुई जब भारत अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है।" पीएम मोदी

e-RUPI का क्या महत्व है ?


वाउचर आधारित भुगतान प्रणाली के रूप में विकसित इस ई-रूपी डिजिटल भुगतान प्रणाली को काफी प्रभावी माना जा रहा है। वाउचर आधारित भुगतान प्रणाली होने के कारण इसे भुगतान के लिए काफी सुरक्षित माना जाता है। अंतर्निहित परिसंपत्ति की विशिष्टता और इसके उद्देश्य के कारण, इसे आभासी मुद्रा नहीं माना जा सकता है।

सरकार द्वारा लंबे समय से इस केंद्रीय बैंक की डिजिटल मुद्रा को विकसित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया था। आज यह वाउचर आधारित भुगतान प्रणाली भारत सरकार द्वारा शुरू की जाएगी। उम्मीद की जा रही है कि वाउचर आधारित भुगतान प्रणाली काफी सुरक्षित साबित होगी। आप जल्द ही ई-रूपी डिजिटल भुगतान प्रणाली का उपयोग करने में सक्षम होंगे। आप अपने e-Rupi Digital Payment से जुड़े अपने सवाल हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं।

e-RUPI कैसे काम करेगा ?


e-RUPI को कैशलेस ऐप के रूप में विकसित किया गया है। इस ऐप को देश की आम जनता के मोबाइल पर भेजने के लिए एसएमएस स्ट्रिंग या क्यूआर कोड सिस्टम की मदद ली जाएगी। लाभार्थी इस ऐप को सीधे अपने मोबाइल पर एसएमएस स्ट्रिंग या क्यूआर कोड के माध्यम से डाउनलोड कर सकते हैं। आप इस प्रीपेड गिफ्ट-वाउचर ऐप का इस्तेमाल बिना किसी क्रेडिट या डेबिट कार्ड, मोबाइल ऐप या इंटरनेट बैंकिंग के कर सकते हैं।

e-RUPI सेवाओं के प्रायोजकों को इस ऐप को देश के हर मोबाइल पर भेजने के लिए किसी के साथ फिजिकली इंटरफेस करने की जरूरत नहीं होगी। इसे आप प्रीपेड गिफ्ट वाउचर के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं। इस ई-आरयूपीआई सेवा के माध्यम से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं को जोड़ा जाएगा।

e-RUPI डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म का उपयोग कैसे करें ? (How to use e rupi)


How to uses e-RUPI Digital Payment Platform ? : प्रधान मंत्री कार्यालय (PMO) द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान के लिए एक कैशलेस और संपर्क रहित साधन है। बयान में कहा गया है कि यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है, जिसे लाभार्थियों के मोबाइल फोन पर पहुंचाया जाता है।

e-RUPI

ई-वाउचर जारी करने की प्रक्रिया (E-Rupee Voucher)


e-RUPI बिना किसी भौतिक इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ सेवाओं के प्रायोजकों को जोड़ता है। यह यह भी सुनिश्चित करता है कि लेन-देन पूरा होने के बाद ही सेवा प्रदाता को भुगतान किया जाए।

यह प्रकृति में प्रीपेड है, यह किसी मध्यस्थ की भागीदारी के बिना सेवा प्रदाता को समय पर भुगतान का आश्वासन देता है। e-RUPI Digital Payment Solution 2021 का एकमुश्त भुगतान तंत्र उपयोगकर्ताओं को सेवा प्रदाता पर कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बिना वाउचर को भुनाने की अनुमति देगा।

e-RUPI Digital Payment 2021 के उद्देश्य


प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ई-रुपी, एक व्यक्ति और उद्देश्य-विशिष्ट डिजिटल भुगतान समाधान लॉन्च किया जिसका उद्देश्य पारदर्शिता में सुधार और लाभों की लक्षित डिलीवरी है।

e-RUPI Digital Payment कि प्रमुख विशेषताएं


  • e-RUPI Digital Payment Solution पीएम मोदी द्वारा भारत में लॉन्च किया गया।
  • e-RUPI डिजिटल भुगतान के लिए एक कैशलेस और संपर्क रहित साधन है।
  • ई-रुपी एक व्यक्ति के साथ-साथ एक उद्देश्य-विशिष्ट भुगतान मंच है।
  • e-RUPI बिना किसी भौतिक इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ सेवाओं के प्रायोजकों को जोड़ता है।
  • यह एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है, जो लाभार्थियों के मोबाइल पर पहुंचाया जाता है।
  • e-RUPI Digital Payment के तहत, लाभार्थियों को एक इलेक्ट्रॉनिक वाउचर या कूपन मिलेगा जिसका उपयोग ऑनलाइन बैंकिंग, भुगतान आवेदन और अन्य पारंपरिक भुगतान मोड के बिना किया जा सकता है।
  • इससे यह सुनिश्चित होगा कि उसके द्वारा दिए गए धन का उपयोग उसी कार्य के लिए किया जाता है जिसके लिए वह राशि दी गई है।
  • ई-आरयूपीआई प्लेटफॉर्म इसे भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से विकसित किया है।
  • e-RUPI बिना किसी भौतिक इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ सेवाओं के प्रायोजकों को जोड़ता है।
  • देश में डिजिटल लेनदेन में डीबीटी को और प्रभावी बनाने में ई-आरयूपीआई वाउचर बहुत बड़ी भूमिका निभाने जा रहा है।

e-RUPI के लाभ (Benefits)


e-RUPI Digital Payment Solution से न केवल सरकार को मदद मिलेगी बल्कि अगर कोई सामान्य संगठन किसी के इलाज में, उसकी शिक्षा में या किसी अन्य काम में मदद करना चाहता है तो वह नकद के बदले ई-आरयूपीआई दे सकेगा।

1) उपभोक्ताओं के लिए लाभ : 
ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सोल्युशन आसान, सुरक्षित और सुरक्षित है क्योंकि यह लाभार्थियों के विवरण को पूरी तरह से गोपनीय रखता है। इस वाउचर के माध्यम से पूरी लेनदेन प्रक्रिया अपेक्षाकृत तेज और साथ ही विश्वसनीय है, क्योंकि वाउचर में आवश्यक राशि पहले से ही संग्रहीत है।

2) स्वास्थ्य सेवाओं के लिए लाभ : 
ई-आरयूपीआई का उपयोग आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, उर्वरक सब्सिडी जैसी योजनाओं के तहत मातृ एवं बाल कल्याण योजनाओं, टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों, दवाओं और निदान के तहत दवाएं और पोषण सहायता प्रदान करने के लिए योजनाओं के तहत सेवाएं देने के लिए किया जा सकता है।

3) निजी क्षेत्र के लिए लाभ : 
निजी क्षेत्र अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के हिस्से के रूप में इन डिजिटल वाउचर का लाभ उठा सकता है।

NPCI द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं


Services Provided By NPCI
भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (National Payment Corporation of India) भारत में खुदरा भुगतान और निपटान प्रणाली के संचालन के लिए जिम्मेदार है। भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम द्वारा प्रदान की जाने वाली कुछ सेवाएं इस प्रकार हैं :

  • एकीकृत भुगतान इंटरफ़ेस (UPI)
यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) एक ऐसी प्रणाली है जो एक ही मोबाइल एप्लिकेशन (किसी भी भाग लेने वाले बैंक के) में कई बैंक खातों को शक्ति प्रदान करती है, कई बैंकिंग सुविधाओं, निर्बाध फंड रूटिंग और मर्चेंट भुगतान को एक हुड में विलय कर देती है।

  • रुपया और भुगतान (RuPay)
रुपे भारत का अपनी तरह का पहला घरेलू कार्ड भुगतान नेटवर्क है, जिसे पूरे भारत में एटीएम, पीओएस उपकरणों और ई-कॉमर्स वेबसाइटों पर व्यापक स्वीकृति मिली है।

  • भारत इंटरफेस फॉर मनी (BHIM)
भारत इंटरफेस फॉर मनी (बीएचआईएम) एक ऐसा ऐप है जो आपको यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) का उपयोग करके सरल, आसान और त्वरित भुगतान लेनदेन करने देता है। आप केवल मोबाइल नंबर या वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (यूपीआई आईडी) का उपयोग करके तत्काल बैंक-टू-बैंक भुगतान कर सकते हैं और भुगतान कर सकते हैं और धन एकत्र कर सकते हैं।

  • राष्ट्रीय स्वचालित समाशोधन गृह (NACH)
नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने बैंकों, वित्तीय संस्थानों, कॉरपोरेट्स और सरकार के लिए "नेशनल ऑटोमेटेड क्लियरिंग हाउस (National Automated Clearing House)" लागू किया है, जो इंटरबैंक, उच्च मात्रा, इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन की सुविधा के लिए एक वेब आधारित समाधान है जो प्रकृति में दोहराव और आवधिक है।

  • तत्काल भुगतान सेवा (IMPS)
वास्तविक समय और 24X7X365 इंटरबैंक फंड ट्रांसफर करने के लिए बैंकिंग उद्योग में एक बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा। बैंकिंग समय के दौरान फंड ट्रांसफर के लिए उपयोगकर्ता के लिए केवल एनईएफटी और आरटीजीएस उपलब्ध थे।

  • राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह (NETC)
 यह निपटान और विवाद प्रबंधन के लिए समाशोधन गृह सेवाओं सहित एक अंतर्संचालनीय राष्ट्रव्यापी टोल भुगतान समाधान प्रदान करता है।

  • भीम आधार (BHIM Aadhaar)
भीम आधार पे व्यापारियों को आधार प्रमाणीकरण के माध्यम से काउंटर पर ग्राहकों से डिजिटल भुगतान प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। यह किसी भी अधिग्रहण करने वाले बैंक से जुड़े किसी भी व्यापारी को BHIM आधार पे पर लाइव, ग्राहक के बायोमेट्रिक्स को प्रमाणित करके किसी भी बैंक के ग्राहक से भुगतान स्वीकार करने की अनुमति देता है।

  • आधार सक्षम भुगतान प्रणाली (AePS)
एईपीएस ऑनलाइन इंटरऑपरेबल वित्तीय समावेशन लेनदेन है जो आधार प्रमाणीकरण का उपयोग करके बैंक के व्यापार संवाददाता के माध्यम से पीओएस पर किया जाता है। इस प्लेटफॉर्म के जरिए आप छह तरह के ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। ग्राहकों को भुगतान करने के लिए नामांकन के दौरान केवल बैंक का नाम, आधार संख्या और फिंगरप्रिंट दर्ज करने की आवश्यकता होती है

  • राष्ट्रीय वित्तीय स्विच (NFS)
एनएफएस ने उप-सदस्यता मॉडल पेश किया है जो आरआरबी और स्थानीय सहकारी बैंकों सहित छोटे, क्षेत्रीय बैंकों को एटीएम नेटवर्क में भाग लेने में सक्षम बनाता है।

  • चेक ट्रंकेशन सिस्टम (CTS)
यह चेक को भौतिक रूप से संसाधित करने के बजाय इलेक्ट्रॉनिक रूप से चेक को साफ़ करने की एक प्रक्रिया है। यह प्रक्रिया भुगतान करने वाली बैंक शाखा को मार्ग में एक बैंक प्रस्तुत करके होती है। इस प्लेटफॉर्म के प्रबंधन के लिए भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम जिम्मेदार है। इस सिस्टम से समय की भी काफी बचत होगी

e-RUPI के बारे में जानने योग्य बातें


Things to know about e-RUPI

  • इस एकमुश्त भुगतान प्रणाली के उपयोगकर्ता सेवा प्रदाता के पास कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बिना वाउचर को भुनाने में सक्षम होंगे।
  • e-RUPI को भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) ने अपने UPI प्लेटफॉर्म पर वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से विकसित किया है।
  • ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सोल्युशन बिना किसी भौतिक इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ सेवाओं के प्रायोजकों को जोड़ता है।
  • पीएमओ ने कहा कि ई-आरयूपीआई का उद्देश्य कल्याणकारी सेवाओं की लीक-प्रूफ डिलीवरी सुनिश्चित करना है।
  • भुगतान प्रणाली यह भी सुनिश्चित करती है कि लेन-देन पूरा होने के बाद ही सेवा प्रदाता को भुगतान किया जाए।
  • पीएमओ के एक बयान में कहा गया है कि ई-आरयूपीआई प्रीपेड प्रकृति का है, यह किसी भी मध्यस्थ की भागीदारी के बिना सेवा प्रदाता को समय पर भुगतान का आश्वासन देता है।
  • भुगतान तंत्र का उपयोग आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, उर्वरक सब्सिडी आदि योजनाओं के तहत मातृ एवं बाल कल्याण योजनाओं, टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों, दवाओं और निदान के तहत दवाएं और पोषण सहायता प्रदान करने के लिए योजनाओं के तहत सेवाएं देने के लिए भी किया जा सकता है।
  • इसके अलावा, निजी क्षेत्र भी इन डिजिटल वाउचरों का उपयोग अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के हिस्से के रूप में कर सकता है।


e-RUPI डिजिटल भुगतान ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करे ?


e-RUPI Digital Payment Online Registration Process : प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक नया डिजिटल भुगतान मोड - ई-आरयूपीआई लॉन्च किया। डिजिटल वाउचर का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि सरकार का मौद्रिक लाभ सीधे 'लीक-प्रूफ' तरीके से नागरिकों तक पहुंचे। लाभार्थियों की पहचान उनके मोबाइल नंबर का उपयोग करके की जाएगी, और यह बिना किसी अन्य संपर्क के उन्हें इलेक्ट्रॉनिक रूप से वितरित किया जाएगा।

 
सभी पात्र आवेदक जो e-RUPI Digital Payment Solution 2021 Online Registration करना चाहते हैं, तो सभी निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और ऑनलाइन आवेदन पत्र को लागू करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें :

e-RUPI पर लाइव अस्पतालों की सूची कैसे देखे ? (View List Of Live Hospitals on e-RUPI)


  • स्टेप 1- ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान की आधिकारिक वेबसाइट यानी www.npci.org.in पर जाएं।
e-RUPI Digital Payment Solution

  • स्टेप 2- होमपेज पर हम What do Option पर क्लिक करें और इसके बाद आपको UPI पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 3- उसके बाद आपको e-RUPI live Partners पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 4- उसके बाद आपको e-RUPI पर लाइव हॉस्पिटल्स पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 5- अस्पताल वेब ब्राउज़र पर प्रदर्शित पीडीएफ फाइल की सूची बनाएं।
  • इस पीडीएफ फाइल में आप ई-आरयूपीआई पर लाइव अस्पतालों की सूची देख सकते हैं।

e-RUPI डिजिटल भुगतान मोबाइल ऐप डाउनलोड करें (E rupi modi app download)


  • स्टेप 1- सबसे पहले अपने मोबाइल फोन में Google play store या Apple App Store को ओपन करें।
  • स्टेप 2- अब सर्च बॉक्स में आपको e-RUPI Digital Payment दर्ज करना होगा।
  • स्टेप 3- उसके बाद आपको सर्च पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 4- स्क्रीन पर ऐप्स की एक सूची प्रदर्शित होगी।
  • स्टेप 5- आपको e-RUPI App के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 6- उसके बाद आपको Install पर क्लिक करना है।
  • स्टेप 7- ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान मोबाइल ऐप आपके डिवाइस में डाउनलोड हो जाएगा।

e-RUPI के साथ लाइव बैंकों की सूची (List Of Banks with e-RUPI)


Name of Banks

Issuer

Acquirer

Acquiring App

Union Bank of India

Yes

No

NA

State bank of India

Yes

Yes

YONO SBI Merchant

Punjab national bank

Yes

Yes

PNB Merchant Pay

Kotak bank

Yes

No

NA

Indian bank

Yes

No

NA

Indusind bank

Yes

No

NA

ICICI bank

Yes

Yes

Bharat Pe and PineLabs

HDFC bank

Yes

Yes

HDFC Business App

Canara bank

Yes

No

NA

Bank of Baroda

Yes

Yes

BHIM Baroda Merchant Pay

Axis bank

Yes

Yes

Bharat Pe


e-RUPI Digital Payment Solution


e-Rupee हेल्पलाइन नंबर और संपर्क पता


eRupee App Helpline Number & ERupee Loan customer care number
BHIM हेल्पलाइन : अब आप भीम टोल फ्री नंबर 18001201740 पर भी पहुंच सकते हैं।

मुंबई :
भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम, 1001ए, बी विंग, 10वीं मंजिल, राजधानी, बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स, बांद्रा (पूर्व), मुंबई - 400 051, फोन - 022 4000 9100

गोरेगांव (मुंबई) :
भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम, इकाई संख्या 201, 301 और 302,
दूसरी और तीसरी मंजिल, रहेजा टाइटेनियम, वेस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे, गोरेगांव पूर्व, मुंबई - 400063, फोन - 022 4050 8500

चेन्नई :
भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम, यूनिट नंबर बी702, 07वीं मंजिल,
टॉवर बी, कॉमर्जोन आईटी पार्क, माउंट पूनमल्ली रोड, पोरुर, चेन्नई - 600 116, फोन - 044 6638 7000

हैदराबाद :
भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम, आईएसबी रोड से दूर आईसीआईसीआई टावर्स, प्लॉट नंबर 12, छठी मंजिल, टॉवर -1 (उत्तर विंग), नानकराम गुडा, वित्तीय जिला, हैदराबाद - 500032, तेलंगाना राज्य


e-RUPI के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ / ERupee reviews)


ई-आरयूपीआई के साथ कौन से बैंक लाइव हैं?
एनपीसीआई के अनुसार, भारतीय स्टेट बैंक, एचडीएफसी, एक्सिस, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक, इंडसइंड बैंक और आईसीआईसीआई बैंक पहले से ही ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान समाधान के साथ लाइव हैं।

e-RUPI कौन जारी कर सकता है?
ई-आरयूपीआई केवल आरबीआई द्वारा प्रीपेड भुगतान लिखत (पीपीआई) जारी करने के लिए अधिकृत बैंकों द्वारा जारी किया जा सकता है और जो यूपीआई पारिस्थितिकी तंत्र में भुगतान सेवा प्रदाता (पीएसपी) के रूप में भाग ले रहे हैं (जिसे "जारीकर्ता" के रूप में संदर्भित किया गया है)।

ई-आरयूपीआई का उपयोग करने के क्या लाभ हैं?
एनपीसीआई की वेबसाइट के अनुसार, यह कॉरपोरेट्स के लिए फायदेमंद है क्योंकि यह एक एंड-टू-एंड डिजिटल लेनदेन है जिसे किसी भी भौतिक जारी करने की आवश्यकता नहीं है। इसलिए, इससे संगठन के लिए लागत में कमी आएगी।

e-RUPI अन्य डिजिटल भुगतान ऐप से कैसे अलग है?
ई-आरयूपीआई और अन्य ऑनलाइन भुगतान ऐप के बीच मुख्य अंतर यह है कि ई-आरयूपीआई कोई प्लेटफॉर्म या ऐप नहीं है। यह एक वाउचर है जिसे केवल विशिष्ट सेवाओं के लिए भुनाया जा सकता है।

Post a Comment

0 Comments